क्या Covid-19 Vaccine लगवाने से आपका Heart कमज़ोर हो गया है?

 मोहन 42 साल के है दिल्ली में रहते है। उन्होंने COVID -वैक्सीन दूसरों के मुकाबले बहुत लेट लगवाया थे। बजह थी अफवाहें ,उन्होंने कई सारे लोगों से सुना था की Covid -19 की वैक्सीन सेफ नहीं है। इसको लगवाने से हार्ट अटैक हो सकता है बेगरह ,घर वालों के बहुत जोर देने पर उन्होंने वैक्सीन लगवा ली। वैक्सीन लगवाने के बाद उनको ऐहसास हुआ की जो अफवाहें ने उन्होंने सुनी थी। सब झूठी निकली वो बिलकुल ठीक है। पर ये सब के बाबजूद भी उनके मन में सक बना रहा और उस सक को हवा तब मिली जब उनके कुछ जानकारों को एक साल के अंदर दिल से जुड़ी कुछ समस्या हो गए। ये समस्याएं थे Myocarditis (मायोकार्डिटिस) और Pericarditis (पेरिकार्डिटिस) ,Myocarditis (मायोकार्डिटिस) यानी की दिल की बिच वाली मांसपेशिया यानी मशाल में सूजन वहीँ Pericarditis (पेरिकार्डिटिस) यानी दिल के आस -पास मौजूद टिसू यानी ऊतक में सूजन हालाँकि अब ये सारे लोग ठीक है पर मोहन सच जानना चाहता है। आज कल लगे हर दिन खबर आ रही है की किसी न किसी सक्स को हार्ट अटैक आने से मौत हो गई है। अब मोहन का ये सबाल है की कहीं ये Covid  वैक्सीन के कारन तो नहीं हो रहा है। कहीं ये दिल की कमजोरी वैक्सीन का तो साइड इफ़ेक्ट नहीं है। मोहन ने जो सबाल हमसे पूछे है वो और भी कई लोग हमसे पूछे है। ऐसे में जरुरी है की लोग तक सही जानकारी पहुचें और किसी बेबुनियाद डर के चलते वैक्सीन से डरे नहीं।



सुनिए Covid -19 पर डॉक्टर का क्या कहना है ?

क्या कोविड वैक्सीन लगवाने के बाद दिलो की बिमारी हो रही है।
आजकल लोग में ये भ्रांतिया है की कोविड -19 वैक्सीन लगाने के बाद से हार्ट की बहुत साड़ी प्रोब्लेम्स होने लगी है। 
ये कुछ हद तक सही है। पर ये बात पूरी तरह से सही नहीं है। 
बहुत कम लोगों को दिल की प्रोब्लेम्स होती है। 
-जिसमें Myocarditis (मायोकार्डिटिस) यानी दिल की बिच वाली मांसपेशिया में सूजन ,Pericarditis (पेरिकार्डिटिस) यानी दिल के आस -पास मौजूद टिशू यानी ऊतक में सूजन और Atrioventricular (AV) block यानी दिल के इलेक्ट्रिक सिंगनल से गरबर जैसी समस्याएं होती है। 
Covid -19 वैक्सीन लगवाना जरुरी है क्योंकि अभी तक कोविड-19 का कोई पक्का इलाज नहीं है। 
वैक्सीन लगवाने से जान बच सकती है। वैक्सीन से होने वाले कार्डियक साइड इफ़ेक्ट यानी दिल को नुकसान पहुँचाने वाले साइड इफ़ेक्ट बहुत कम है। 
अभी तक जितने लोगों को साइड इफ़ेक्ट हुआ है वो सब ठीक है।

लोगों को क्या सबधाणी बरतनी चाहिए  ?

अगर असिपरिन ,क्लोपिडोग्रेल या कोई भी खून पतला करने की दवाइया ले रहे है तो उसको लेते रहे। 
इनका इस्तेमाल करते रहे और तब वैक्सीन लगवाए। वैक्सीन लगवाने के बाद फ्लू जैसे लक्षण होना आम है। 
लेकिन अगर सीने में दर्द ,साँस लेने में दिक्कत या चक्कर आते है तो अस्पताल जरूर जाए। 
कोविड -19 एक वायरल बिमारी है। वायरल बिमारी होने के कारण वायरस से कभी -कभी पेरिकार्डिटिस  vs मायोकार्डिटिस हो सकता है। 
क्योंकि ये ठीक हो जाता है ,इसलिए आप बहुत ज्यादा कुछ नहीं कर सकते है। अगर दिल की कोई बिमारी पहले से है तो डॉक्टर्स की सलाह जरूर लें। 

वैक्सीन लगवाने के बाद किन बातों का ध्यान रखें 

वैक्सीन लगवाने के बाद अगर सीने में दर्द हो रहा है। या साँस फूल रही है। चक्कर आ रहा है। पाल्स कम हो रही है,तो अस्पताल जरूर जाए ,खाने -पीने का संतुलन रखें। पर वैक्सीन से कोई बरी प्रोब्लेम्स नहीं होती है। जिन लोगों को ये समस्या हो गई है वो जल्दी ठीक भी हो जायेंगे। इसलिए परेशान होने की जरुरत नहीं है ,पर अगर लक्षण दिख रहे है तो डॉक्टर के पास जरूर जाए। मामूली फ्लू जैसे लक्षण है जैसे बुखार ,कफ ,शरीर में दर्द ,सर में दर्द तो इसके लिए पेरासिटामोल टेबलेट लेना चाहिए उससे ठीक हो जाता है। तो भाई जिन -जिन लोगों को मन में ये डर है की Covid -19 वैक्सीन लगवाने के बाद भी हार्ट अटैक का खतरा ज्यादा है तो वे डर अपने मन से निकाल दीजिये। डॉक्टर इस बात पर जोर दे रहे है की ऐसा नहीं है ,Covid वैक्सीन लगवाना बहुत जरुरी है। ये आपकी जान बचा सकती है। यदि वैक्सीन लगवाने के बाद आपको कोई लक्षण दिखते है तो आप तुरंत डॉक्टर से मिले पर हाँ जिन condition का जिक्र डॉक्टर साहब ने किया है वो ठीक हो जाते है। इसलिए आपको घबराना नहीं है।

 अब बढ़ाते है  अगले असाइनमेंट की तरफ तन की बात 

तन की बात जानिए आपको जुखाम में आपकी दांत में दर्द क्यों होने लगता है। मुझे  हाल -फिलहाल में शर्दी जुखाम हुआ था। आवाज तो अभी फंसी हुई है इस बार जब शर्दी जुखाम हुआ तो हमनें एक बात नोटिस किया। जुखाम के साथ -साथ मेरे ऊपर वाले दांतों में एक अजीब सा दर्द हो रहा था। पहले मैंने इगनोर किया। मुझे लगा शायद दांतों का दर्द होगा। एक मुसीबत और आ गई पर एक दिन मुझे ख्याल आया की ऐसा पहली बार नहीं हो रहा है। जब -जब भी मुझे शर्दी जुखाम होता है मेरे ऊपर वाले दांतों में दर्द होने लगता है। अब ये हो सकता है। आप में से कुछ लोगों की ये बात पहले से पता हो पर मुझे मालूम नहीं था। इसलिए हमनें डॉक्टर साहब से पूछा की ऐसा क्यों होता है ,पता चला की जब भी आपको शर्दी खांसी ,जुखाम या सिनसेस होता है। तब आपके दांतों परभी बहुत प्रेसर परता है। होता क्या है जब आपके ऊपर वाले दांतों है। वो सिनसेस के पास होता है।  

अब बात है सिनसेस क्या होता है ?

सिनसेस हमारे नाक के दोनों हड्डी के तरफ खाली जगह होते है ये नाक के ऊपर ,आँख के ऊपर माथे पर और गालों पे होते है। अगर सिनसेस में इन्फेक्शन हो जाए या ब्लॉक हो जाए या इनके अंदर सूजन आ जाये तो इसे सिनसेस कहते है। शर्दी जुखाम के दौरान सिनसेस बलगम के बजह से ब्लॉक हो जाते है। इनमें सूजन आ जाती है और आपके दांत भी सिनसेस के परोसी होती है और उनके पास होता है। इनके सूजन के कारन दांत पर बहुत प्रेसर परता है। जिसके बजह से ये दर्द होता है। दर्द जुखाम ख़त्म  होते होते ये ठीक हो जाता  है। पर इस दौरान आप एक ट्रिक ट्राई कर सकते है। एक तो इसे गुण-गुने पानी में भिगों कर नाक गाल और आँख के पास रखिये मतलब सेकाई करिये। पर अगर दर्द बहुत ज्यादा है आराम ही नहीं हो रहा है तो आप डॉक्टर से जरूर मिलिए एक बात और ये बाला दर्द केवल एक दांत में नहीं होता है। बल्कि कई दांतों में एक साथ होता है। बल्कि कई दांतों में एक साथ होता है । 

समझे अब बारी है शेहद के आखरी सिग्मेंट की खुराक यानी खाकास की हेल्थ टिप्स की --- 

अब जब शर्दी जुखाम का जिक्र ही हो रहा है जो इस मौसम में बहुत आम बात है तो ये भी जान लेते है की कोल्ड होने पर आपको क्या चीज़ खाना avoide करने चाहिए 

                             खुराक -एवं परहेज ---

जब किसी इंसान की सिनसेस होता है टी लक्षण की अर्पण शर्दी जुखाम अलेर्जी सिर दर्द बुखार खांसी नाक बंद गले में खरास और साँस से बदबू आती है। अब इस दौरान यानी सिनसेस होने के दौरान इंसान को साँस लेने में दिक्कत महसूस होती है। डॉक्टर बताता है की यदि सिनसेस है तो dairy product जैसे दूध -दही पनीर बगैरह के इस्तेमाल से बचने की सलाह दी जाती है क्योंकि ऐसे केश में dairy के ज्यादा इस्तेमाल से बलगम और ज्यादा बनते है। ज्यादा बलगम यानी ज्यादा दिक्कत डॉक्टर का कहना है की केले से भी थोड़ा परहेज करना चाहिए। आज शेहद के लिए इतना ही। अगर आप डॉक्टर है तो कुछ शेयर करना चाहते है तो हमारे contact form को भर कर हमसे बात कर शेयर कर सकतें है। 


  

और नया पुराने